Thursday, 19 May 2016

ईश्वर विश्वास से ही व्यक्ति सन्मार्ग पर चल सकता है

  किसी  भय  अथवा  प्रलोभन  से , दण्ड  अथवा  सामाजिक  बहिष्कार  से    किसी  भी  व्यक्ति  को  सन्मार्ग  पर  चलने  को  ,  सत्प्रवृतियों   को  अपनाने  को  विवश  नहीं  किया  जा  सकता  ।  जब  व्यक्ति   सच्चे  अर्थों  में    आस्तिक  होता  है    ,  ईश्वर  पर  विश्वास  करता  है  तो  वह  अपना  कर्तव्यपालन  पूरी  ईमानदारी  से  करता  है   ताकि  इस  कर्तव्य परायणता  के  आधार  पर  वह  ईश्वर  को  प्रसन्न  कर  सके    ।  ऐसा  व्यक्ति
सबमे  परमात्मा  को  देखता  है और  सबके  साथ  सह्रदयता  का ,  सज्जनता  का  व्यवहार  करता  है   ।
    संसार  में  शान्ति  के  लिए  लोगों  का  ईश्वर  विश्वासी  होना  जरुरी  है    । 

No comments:

Post a comment