Thursday, 26 May 2016

शक्ति का सदुपयोग जरुरी है

  किसी  के  पास  धन , पद ,  वैभव  की  ताकत  है ,  कला , साहित्य  आदि  किसी  भी  क्षेत्र  में  कोई  विशेष  प्रतिभा  है   तो  इसका  उपयोग  उसे  इस  प्रकार  करना  चाहिए  कि  स्वयं  का  जीवन  भी  सुख - सुविधा  में  हो  और  उससे  कुछ   लोक  कल्याण  भी  हो  |  शक्ति  का  उपयोग  इस  प्रकार  हो कि  उससे  समाज  के  उत्थान  में  मदद  मिले     ।     यदि  कोई  कलाकार  या  साहित्यकार    अपनी  प्रतिभा  का  उपयोग  समाज   में   लोगों  की  मानसिकता  को  प्रदूषित  करने  के  लिए  करता  है   तो  यह  गलत  है  , पाप  कर्म  है   ।   इसी  प्रकार  उच्च  पद  पर  पहुँचा   व्यक्ति   अपनी  शक्ति  का  प्रयोग  अत्याचार  करने   के  लिए  करता    है  तो  यह  गलत  है    ।
  मनुष्य  के  पास  थोड़ी  भी  ताकत  आ  जाती  है  तो  उसका  उपयोग  वह   अपने  अहंकार  की  पूर्ति  में  करने लगता  है  इसी  से  समाज  में  अशान्ति  होती  है   l 

No comments:

Post a comment