Saturday, 10 September 2016

संसार में अशान्ति का कारण मनुष्य की सोच का एकांगी होना है

  आज  मनुष्य  एक  झूठे  अहंकार  में    डूबा    हुआ  है   वह  अपनी  छोटी - छोटी   जरूरतों  के  लिए  अन्य   पर  निर्भर  है ,  इस   बात  को  स्वीकार  करना  ही  नहीं  चाहता   ।  मनुष्य   का   भोजन , पानी , चिकित्सा , मनोरंजन , सफाई - व्यवस्था   आदि   सभी  कार्य  समाज  में  परस्पर  निर्भरता  से  ही  संपन्न  हो  पाते  हैं  ।
           कृषि  व  उद्दोग  परस्पर  निर्भर  है ,   मनुष्य , प्रकृति , पशु - पक्षी  सब  परस्पर  निर्भर  हैं ,  एक  के  बिना  दूसरे  का  अस्तित्व  संभव  नहीं  है  ।
  बड़ी - बड़ी  कम्पनियां    इसलिए  बड़ी  है  ,  संसार   में  उनका  नाम  है   क्योंकि  उसमे  काम  करने  वाले  कर्मचारी  कुशल  और   समर्पित  भाव  से  काम  करने  वाले  है ,   इसी  तरह   इन  कर्मचारियों  का  जीवन - स्तर  उच्च  है   क्योंकि  कम्पनी  उन्हें  अच्छा  वेतन  दे  रही  है   ।  ये  दोनों  पक्ष  परस्पर  निर्भर  हैं  ।
       संसार  में  रहने  वाला  प्राणी  कोई   महायोगी  नहीं  है   जो  यह  कह  दे  कि  मुझे  अपने  किसी  कार्य  के  लिए  या  किसी  सुख  के  लिए  किसी  की  आवश्यकता  नहीं  है  ।
     आज  मनुष्यों  पर  दुर्बुद्धि  का  प्रकोप  है   वह  दूसरे  को  मिटा  कर  सुखी  होना  चाहता  है  ,  इसी  लिए  संसार  में  अशान्ति  है  ।   प्रत्येक  मनुष्य  जाने - अनजाने  में  आत्म हत्या   की  ओर  बढ़  रहा  है  । 
  ' हम  सब  एक  माला  के  मोती  हैं  ' ------ यह  सत्य  जिस  दिन  मनुष्य  की  समझ  में  आ  जायेगा   उस  दिन   से  वह   ' जियो  व  जीने  दो '  के  सिद्धान्त  पर  चलेगा  ,  तभी  संसार  में  शान्ति  होगी  । 

No comments:

Post a comment