Tuesday, 6 September 2016

अपने कष्टों के लिए दूसरों को दोष न दें

 अधिकांश  लोग  अपने  दुःख , कष्ट  के  लिए  दूसरों  को  दोष  देते  हैं   जबकि  सच्चाई  ये  है  कि  कोई  किसी  के  सुख - दुःख  का  दाता  नहीं  है  ।   प्रारब्धवश  जो  कष्ट  हैं  वह  उतने  नहीं  होते  जितने  कि  व्यक्ति  की  गलत  आदतों ,  उसका  गलत  आचरण ,  दिनचर्या  सही  न  होना ,  आलसी ,  क्रोधी  स्वभाव,  ईर्ष्यालु  होना ,  अहंकार आदि  व्यक्ति  की  स्वयं  की  कमियों  के  कारण  ही   उसके  जीवन  में  समस्याओं  का  उदय  होता  है  ।   पति - पत्नी , बच्चे , माता - पिता  इनके  मिलने  से  ही  परिवार  बनता  है   इसलिए  इनके  द्वारा  किये  जाने  वाले  अच्छे - बुरे  कर्म  भी   संतानों  को  और  आगे  आने  वाली  पीढ़ियों  को  प्रभावित  करते  हैं  ।  इसलिए  जीवन  में  जब   भी  कष्ट  और  परेशानियाँ  आएं  तो  सर्वप्रथम  स्वयं  के  भीतर  झाँक  कर  देखे  कि  जीवन  में  कहाँ , क्या  गलतियाँ  की  हैं ,  फिर  माता - पिता  को  देखे  ,  यदि  उनकी  कमाई  पाप  की  है ,  भ्रष्ट  तरीके  से  दूसरे  को  कष्ट  देकर   धन  कमाया  है  तो  उस  पाप  की  छाया  परिवार  पर  अवश्य  पड़ेगी  ।  सबको  तो  नहीं  सुधारा  जा  सकता ,  लेकिन  स्वयं  की  गलतियों  को  समझकर  स्वयं  को  सुधारने  का  प्रयास  करें  तभी  जीवन  में  वह  अनोखी  शान्ति  प्राप्त  हो  सकती  है   । 

No comments:

Post a comment