Saturday, 24 September 2016

अशान्ति का कारण है ---- लोग ईश्वर से ज्यादा ' व्यक्ति ' पर विश्वास करने लगे हैं

ईश्वर  विश्वास  का  अर्थ  है ---- सन्मार्ग  पर  चलना , दुर्गुणों  को  त्याग  कर  सद्गुणों  को  अपनाना , सत्कर्म  करना  ,  कभी  किसी  का  अहित  नहीं  करना ---  निष्काम  कर्म  करना    जिससे  ईश्वर  प्रसन्न  हों  और  हमें  उनकी  कृपा  मिले   ।
  आज  के  समय  में  लोगों  को  यह  सब  कार्य   बहुत  कठिन  लगता  है    इसलिए  लोग   केवल  कर्मकांड  कर  के  स्वयं  को  आस्तिक  बताते  हैं   और  समाज  में  अपने  छोटे - बड़े ,  उचित - अनुचित   कार्यों  के  लिए  ,  अपना  रुतबा  बनाये   रखने  के  लिए   शक्तिसंपन्न  लोगों  का  ,  ' गुंडों ' का  सहारा  लेते  हैं  ।   इसी  लिए  जब  ये  ' गुंडे '  अनैतिक  कार्य  करते  हैं ,  लोगों  पर  अत्याचार  करते  हैं   तब  सब  आँखों  पर  पट्टी  बाँध  कर  चुप  रहते  हैं   l   आज  स्वार्थ  ने  व्यक्ति  को  अन्धा  बना  दिया   है,  लोग  केवल  अपना  हित  देखते  हैं   ।    इसी  वजह  से  सारे  संसार  में  अशान्ति  है    l                                                                                                                                                                                                                                                     

No comments:

Post a comment