Wednesday, 21 September 2016

संसार में शान्ति के लिए कला एवं साहित्य की श्रेष्ठता अनिवार्य है

मनुष्य  के  मन  पर  सबसे  ज्यादा  असर  फिल्मों  का  पड़ता  है  l  जब  वह  अपने  पसंदीदा  कलाकार  को   किसी  विशेष  अभिनय  में  देखता  है   तो  उसके  मन  में   वह  द्रश्य  अंकित  हो  जाते हैं   और  धीरे  -  वह  विचार  कार्य  रूप  में  दिखाई  देने  लगते  हैं   ।   आज  से  लगभग    15- 20  वर्ष  पहले  जो  फिल्म  बनाई  जाती   थीं  ,  वे   हिट  हों   इसके  लिए  उनमे  हत्या , अपहरण  और  बलात्कार  के  द्रश्य  ठूंसे  जाते  थे  ।   आज  उन्ही  द्रश्यों  का   व्यवहारिक  रूप  समाज  में   देखने  को  मिलता  है  ,  लोगों  की  मानसिकता  प्रदूषित  हो  चुकी  है   ।  आज  की  सबसे  बड़ी    जरुरत  यह  है  कि   इस  प्रदूषण  को  रोका  जाये   ।
 श्रेष्ठ  फिल्मो  और  श्रेष्ठ  साहित्य  से  ही  इस  प्रदूषण  को  दूर  किया  जा  सकता  है  ।                               
                                                                        

No comments:

Post a Comment