Saturday, 3 September 2016

सद्गुणों को महत्व देना चाहिए

  आज  व्यक्ति  सुख - शान्ति  तो  चाहता  है   लेकिन  उस  पर  दुर्बुद्धि  इस  कदर  हावी  है  कि  वो  भ्रष्टाचारी ,  आततायी ,  अनैतिक   और  अत्याचारी  का  ही  पक्ष  लेते  हैं ,  उसे  ही  अपना  पथ - प्रदर्शक  समझते  हैं    और  उन्ही  को  सम्मान  देने  में  अपनी   ऊर्जा   व्यर्थ   गंवाते  हैं     |  ऐसे  लोगों  का  बहुमत  है  |  सद्गुणी  व्यक्ति   के  साथ  तो  ऐसा  सलूक  होता  है  जैसे   वो  त्याज्य  हो   ।  जनसँख्या  जिस  तरह  गुणात्मक  दर  से  बढ़ती  है  उसी  तरह  दुष्टता  भी  बढ़ती  जा  रही  है   ऐसे  में  सुख - शान्ति  कैसे  मिले  ?
     इस  संसार  में  युगों  से  अँधेरे  और  उजाले  का  संघर्ष  चलता  आ  रहा  है  ,  यह  सत्य  है  कि  अँधेरे  को  हारना  पड़ता  है  लेकिन  उसे  हराने  के  लिए  अच्छाई  को  संगठित  होना  पड़ेगा  ,  निष्काम  कर्म  से  अपने  आत्म  बल  को  बढ़ाना  होगा   l   यही  वह  शक्ति  है  जिससे  दुष्टता  को  पराजित  किया  जा  सकता  है  l   

No comments:

Post a Comment