Sunday, 25 September 2016

अशांति मनुष्य ने स्वयं मोल ली है

    समाज  में  होने  वाले  अपराध ,  शोषण ,  अनैतिक  कार्य , उत्पीड़न,  अत्याचार  आदि  के  कारण  ही  अशांति  रहती  है  ।   पहले  जो  अपराधी  होते  थे  , उन्हें  लोग  समाज  से  बहिष्कृत  कर  देते  थे  ,  उनसे  दूर  रहते  थे  ।  उसके  प्रायश्चित  करने  पर ,  सुधर  जाने  पर  उसे  पुन:  समाज  में  लिया  जाता  था ,  इसलिए  लोग  अपराध  करने  से  डरते  थे  ।
  लेकिन  आज  के  समय  में  अपराधी  समाज  में  ही  घुल - मिलकर  रहते  हैं   ।
  एक    व्यक्ति   भी   जब  कोई  मर्यादा  का  उल्लंघन  करता  है ,  अनैतिक  कार्य , अपराध  करता  है  ,  किसी  भी  कारण  से  वह   दण्डित  होने  से  बच    जाता  है ,  और  समाज  उसे  स्वीकार  कर  लेता  है    तो  उससे   अन्य   लोगों  को  भी  शह  मिलती  है  ।  फिर  अपराध  का  सिलसिला  शुरू  हो  जाता  है  ।
    अपराध  चाहे  छोटा  हो  या  बड़ा    व्यक्ति  को  कष्ट  देता  है   ।
आज  के  समय  में  पहचानना  मुश्किल  है  कि  वास्तविक  अपराधी  कौन  है  ?  अपराध  करता  हुआ  कोई  दीखता  है   लेकिन  उसके  पीछे  वास्तविक  अपराधी  कौन  है   ,  यह  जानना  मुश्किल  है  ।
  जब  लोग   प्रकृति  के  दंड विधान  से  डरेंगे  ,  आँखे  खोलकर  अपने  जीवन  में  देखेंगे  कि  गलत  कार्य  करने  से   कितनी  सुख - शान्ति  मिल  गई  ?     यह  सत्य  समझना  जरुरी  है   । 

No comments:

Post a comment