Thursday, 29 September 2016

करुणा , संवेदना जैसे सद्गुण न होने से ही समाज में अशान्ति है

   माँसाहारी  होने  के  कारण  अब  मनुष्यों  में  पशुता  बढ़ती  जा  रही  है   ।   नशा  करने  और  मांसाहार  करने  से   मनुष्य  में  उस  पशु  के  लक्षण  आ  जाते  हैं  जिनका  वह  मांस  खाता  है  । ऊपर  से  दिखने  में  वे  मनुष्य  हैं  लेकिन  उनकी  प्रवृतियां  पशुओं  जैसी  है  ,  जिनमे  करुणा, संवेदना  जैसे  कोई  सद्गुण  नहीं  हैं ,  उस  पर  से  धन  के  लालच  ने  मनुष्य  की  बुद्धि  को  कुंठित  कर  दिया  है  ।  धन  प्राप्त  करने  के  लिए  ,  समाज  में  अपना  रुतबा  बनाये  रखने   के  लिए  अब  वह  सही - गलत  कुछ  भी  कर  सकता  है  ।
  आज  समाज  में  बड़े  बदलाव  की  जरुरत  है    क्योंकि  आज   समाज  में  लूटपाट ,  हत्या ,  भ्रष्टाचार , दूसरों  का  हक  छीनना,  महिलाओं  के  प्रति  अपराध , शारीरिक , मानसिक  उत्पीड़न  आदि  अपराध  कोई  विदेशी  नहीं  कर  रहा  ।  अपने  ही  अपनों  को   सता  रहे  हैं  ।
  गलत  आचार - विचार   और  मनुष्य  की  दूषित  प्रवृतियों  के   कारण   ही  समाज  में  अशान्ति  है  । 

No comments:

Post a comment