Thursday, 15 September 2016

सत्कर्म की पूंजी संचित करें

आज  के  इस  युग  में  धन  को  बहुत  अधिक  महत्व  दिया  गया  है  इसी  लिए  व्यक्ति  भ्रष्ट  तरीके  से  धन  कमाने  लगा   l   यही  महत्वपूर्ण  वजह  से   संसार  में  इतना  पाप  बढ़   गया  है    |  सत्कर्म   करने  से    नकारात्मकता  दूर  होती  है  ,   एक  दिव्य  एहसास  होता  है  कि   कोई  दिव्य  शक्ति  हमारी   मदद  कर  रही  है  ,  यह  अनुभव  मन  को  एक  अनोखे  आनन्द  से  भर  देता  है  l 

No comments:

Post a comment