Thursday, 22 September 2016

नैतिक मूल्यों की स्थापना से ही शान्ति संभव है

कोई  भी  समाज  अपनी  संस्कृति  के  अनुरूप  आचरण  कर  के  ही  सुखी  हो  सकता  है   ।  भारतीय  संस्कृति  में  मर्यादा ,  नैतिकता  और  श्रेष्ठ  चरित्र  को  प्रधानता  दी  गई  है   लेकिन  धन  का  लालच ,  असीमित  कामनाएं , फिल्मों  की  अश्लीलता  आदि   के   कारण   आज  मनुष्य   मर्यादा  और  नैतिकता  को  भूल  गया  है  ,  लेकिन   मन  की  गहराइयों  में  वह  श्रेष्ठ  चरित्र  को  ही  पसंद  करते  हैं    इसलिए  समाज  में  ऐसे  लोग  मुखौटा  लगाकर  रहते  हैं  ताकि  उनकी  असलियत   किसी  को  मालूम  न  हो  ।
   परिवार  में  कलह  का  यही  बड़ा  कारण  है   ।

No comments:

Post a comment