Tuesday, 27 September 2016

अशान्ति के कारणों को दूर करना होगा

 अपने  मन  को   नियंत्रित  करना  बड़ा  कठिन  कार्य  है .   उस  पर  से  समाज  में  ऐसी  चीजें  उपलब्ध  होना  जो  मन  को  और  विचलित  करती  हैं ,    ऐसी  स्थिति  सम्पूर्ण  समाज  के  लिए  घातक  है  ।  अश्लील  फ़िल्में  देखने  से  व्यक्ति  का  मन   वैसे  ही   विचलित  रहता  है  ,  फिर  भारत    एक    गर्म  जलवायु  का  देश  है  इसलिए  शराब ,  तम्बाकू  आदि  नशीले  पदार्थों    के  सेवन  से   मन  पर  नियंत्रण  खत्म  हो  जाता  है    और  व्यक्ति  पशु  से  भी  बदतर  हो  जाता  है   ।  महिलाओं  के  प्रति  हिंसक  व्यवहार ,  चरित्र  हनन  --- इन  सबके  पीछे  प्रमुख  कारण  नशे  की  अधिकता  है  ।
   यदि  हमें  अपनी  संस्कृति  को  जीवित  रखना  है  ,  पारिवारिक  जीवन  सुखमय  बनाना  है ,  समाज  में  शांति  रखनी  है    तो  नशे  से  दूर  रहना  होगा   ।
   नशा  करने  वाले  की  बुद्धि  भ्रष्ट  हो  जाती  है  ,  वह  अपने  शरीर  को  गलाकर ,  परिवार  को  दुःखी  करके   नशा  बेचने  वाले  को  अमीर  बना  देता  है   । 

No comments:

Post a comment