Friday, 16 September 2016

ईश्वर की भक्ति या पूजा कोई सौदा नहीं है

 अधिकांश  लोगों  का  यह  कहना  होता  है  कि  हमने  इतनी  ईश्वर  की  पूजा  की  , भजन - पूजन , मूर्ति  स्थापना  सब  कुछ  किया  लेकिन  फिर  भी  जीवन  में  कष्ट  व  दुःख  आया  ,  कोई  फायदा  नहीं  हुआ  ।
     यह  बात  हमें  अच्छे  से  समझ  लेनी  चाहिए   कि  पूजा  - भक्ति  कोई  सौदा  नहीं  है  कि  हमने  की  और  हमारे  कष्ट  दूर  हो  गये  या  भविष्य  के  लिए  गारंटी  हो  गई  कि  अब  दुःख  नहीं  आएगा  ।
   सुख  और  दुःख  तो  हमारे  अपने  ही  कर्मों  का  प्रतिफल  है  जो  हमने  जाने - अनजाने  में  इस  जन्म  में  किये  या  पिछले  जन्म  में  ।
  पूजा-  भक्ति  करना  व्यक्ति  की  अपनी  इच्छा  है ,  संसार  की  भाग - दौड़  से  मन  हटाकर  ईश्वर  में  मन  लगाना  अच्छा  है  ,  लेकिन  यह  सोचना  कि  ऐसा  करने  से  वो  हमारे  प्रारब्ध  को  बदल  देंगे  ,  असंभव  है    एक  बार  कोई  व्यक्ति  पूजा - पाठ  न  भी  करे ,  लेकिन  वह  सत्कर्म  करता  है ,  किसी  को  दुःख  नहीं  पहुँचाता  है ,  नि:स्वार्थ  भाव  से  सेवा  , परोपकार  के  कार्य  करता  है   तो  दुआओं  में  इतनी  शक्ति  होती  है  कि  कठोर  प्रारब्ध  बहुत  हल्का  हो  जाता  है  ,  जैसे  भयानक  एक्सीडेंट  होना  हो  तो  उसकी  बजाय  थोड़ी  सी  खरोंच  आ  जाती  है  ।
  प्रारब्ध  को  काटने  की  शक्ति  तो  गायत्री  मन्त्र  में  है  ,  इसकी  सफलता  के  लिए  जरुरी  है  कि  निष्काम  कर्म  करें ,  अपना  कर्तव्य  पालन  करें ,  पूजा  के  बहाने  कर्तव्य  से  जी  न  चुराएँ  ।  और  अपने  दोषों  को  दूर  करने  का  प्रयत्न  करते  हुए  सन्मार्ग  पर  चलें    ।  

No comments:

Post a Comment