Wednesday, 7 September 2016

मनुष्य अपनी आदतों का गुलाम है

  लोग  यह  अच्छी  तरह  जानते हैं  कि  नशा , गुटका , तम्बाकू  यह  सब  उसके  स्वास्थ्य  के  लिए  हानिकारक  हैं  लेकिन  फिर  भी  वे  उसे  छोड़ते  नहीं  हैं  ।   कहते  हैं  ' मार  के  डर  से  भूत  भागता  है  । '  लोगों  को  सुधारने  के  लिए  कठोर  नियंत्रण  की  आवश्यकता  है  ।  जब  व्यक्ति  शरीर  व  मन  से  स्वस्थ  होगा   तभी  वह  जीवन  में  सकारात्मक  कार्य  कर  सकेगा  ,  पर्यावरण  को  भी  स्वच्छ  रखेगा  ।
  हम  सब ---- मनुष्य , पेड़ - पौधे , पशु - पक्षी  -- सम्पूर्ण  जगत    एक  ही  माला  में  गुंथे  हए  हैं   ।  सुख - शान्ति  से  जीना  है  तो  ' जियो  और  जीने  दो '  के  सिद्धान्त  पर  चलना  होगा   ।
     लोग  युवा  पीढ़ी  से  ही  सारी  उम्मीदें  रखते  हैं ,  उन्ही  को  सुधारना  चाहते  हैं   लेकिन  प्रौढ़  और  बुजुर्ग  वर्ग  स्वयं  सुधरना  नहीं  चाहते  , भ्रष्टाचार , बेईमानी , ईर्ष्या - द्वेष , अहंकार , असंयम  ,  गलत  आदतें ,  कुछ  भी  नहीं  छोड़ना  चाहते  ।  संसार  से  जाने  का  समय  भी  आ  जायेगा   तब  भी  युवा  पीढ़ी  के  लिए  कोई  आदर्श  प्रस्तुत  कर  नहीं  जायेंगे  ।
केवल  भौतिक  विकास  से  कभी  शान्ति  नहीं  होगी ,  मनुष्य  की   चेतना  भी  विकसित  हो   तभी  लोगों  के  मन  में  शान्ति  होगी   और  जब  अधिकाधिक  शान्त  मन  के  लोग  होंगे  तभी  संसार  में  शान्ति  होगी  

No comments:

Post a Comment