Sunday, 10 September 2017

सुख - शान्ति से जीने का एक ही रास्ता ----- निष्काम कर्म

 प्रत्येक व्यक्ति  को  अपना  जीवन  अपने  लिए  सुन्दर  दुनिया  स्वयं  बनानी  पड़ती  है  l  सुख - शान्ति  से  वही   व्यक्ति  जीवन  जी  सकता  है  जिसके  पास  विवेक  हो  , सद्बुद्धि  हो  l  सद्बुद्धि  कहीं  बाजार  में  नहीं  मिलती  और  न  ही  इसे  कोई  सिखा  सकता  है  l   लोभ , लालच , स्वार्थ , ईर्ष्या, अहंकार , झूठ , बेईमानी , धोखा , अनैतिक  कार्य  जैसे  दुर्गुणों  को  त्यागने   का  प्रयास  करने   के  साथ    जब  कोई  निष्काम  कर्म  करता  है  ,  तब  धीरे - धीरे  उसके  ये  विकार  दूर  होते  है   और  निर्मल  मन  होने  पर  ईश्वर   की    कृपा  से  उसको  सद्बुद्धि  मिलती  है   l   सद्बुद्धि  न  होने  पर   संसार  के  सारे  वैभव  होने  पर  भी  व्यक्ति  अशांत  रहता  है  l  अपनी  दुर्बुद्धि  के  कारण  छोटी  सी  समस्या  को  बहुत  बड़ी  समस्या  बना  लेता  है   l
      इसलिए  जरुरी  है  कि  बचपन  से  ही  बच्चों  में  छोटे - छोटे  पुण्य  कार्य  करने  की   आदत  डाली  जाये  l  अधिकांश  लोग  कर्मकांड  को , पूजा -पाठ  को  ही   पुण्य  कार्य  समझते  हैं  ,  कोरे  कर्मकांड  का  कोई  प्रतिफल  नहीं  होता  l   छोटी  उम्र  से  ही  यदि  बच्चों  में  पक्षियों  को  दाना  देना ,  पुराने  वस्त्र  आदि  जरूरतमंद  को  देना   जैसे  पुण्य  कार्य   की   आदत  हो  जाये  तो  उसका  सकारात्मक  प्रभाव  पूरे  जीवन  पर  पड़ता  है   l  

No comments:

Post a comment