Friday, 22 September 2017

अशांति का कारण है -- मनुष्य सरल रास्ते से तरक्की चाहता है

  धन - दौलत  और  पद - प्रतिष्ठा  हर  व्यक्ति  चाहता  है   l  महत्वाकांक्षी  होना  अच्छी  बात  है  ,  लेकिन  आज  के  समय  में   लोगों  में  धैर्य  नहीं  है  ,  सब  कुछ  बिना   मेहनत  के  और  बहुत  जल्दी   पा  लेना चाहते  हैं  l   इसके  लिए   ऐसे  लोगों  के  पास  एक  ही  तरीका  है --- जिसके  माध्यम  से    सब  कुछ  अति  शीघ्र   हासिल  हो  सके  ,  उसकी  खुशामद  करो  l  लोग   इस  कदर   चापलूसी   करते  हैं  जैसे  वह  व्यक्ति  भगवान  हो  ,  जिसमे  उनके  भाग्य  बदलने   की    क्षमता   हो  l
  इस  एक  दोष  के  कारण  समाज  का  वातावरण  दूषित  होता  है  l  जिसकी चापलूसी    की   जाती  है   उसका  अहंकार  उसके  सिर  चढ़  जाता  है    वह  सब  पर  अपनी  हुकूमत  चलाना  चाहता  है  l  
  जो  चापलूसी  करता  है   वह    धन - सम्पदा  तो   इकट्ठी  कर  लेता  है   लेकिन   अपनी  योग्यता  नहीं  बढ़ाता,  उसका  व्यक्तित्व  खोखला  हो  जाता  है  l   वह  भी  अपने  लिए  चापलूसों   की  भीड़  चाहता  है   और  इसके  लिए  हर  प्रकार  के  तरीके  अपनाता   है ,  इसी  कारण  समाज  में  अशांति होती  है   l 

No comments:

Post a comment