Saturday, 30 September 2017

आत्म - निरीक्षण जरुरी है

   संसार  में  समय - समय  पर  आपदाएं  आती  रहती  हैं  , कुछ  प्राकृतिक  हैं  तो  अनेक  दुर्घटनाएं  मानवीय  भूलों  का  परिणाम  हैं  l  ऐसी  दुर्घटनाओं  में  अनेक  लोगों  की  मृत्यु  हो  जाती  है  अनेक  परिवार  बिखर  जाते  हैं   l   सबसे  बड़ी  बात  यह  है  कि   ये  दुर्घटनाएं  यह  नहीं  देखतीं   कि  --- किस  दल  को  मारें ,  किस  धर्म ,  किस  समुदाय ,  नारी  अथवा  पुरुष  किस  पर  प्रकोप  दिखाएँ  ?   इन  दुर्घटनाओं  में  तो   अच्छे - बुरे ,  ऊँच - नीच ,  छोटे - बड़े ,  किसी  पर  भी  विपत्ति  आ  सकती  है    l    प्रत्येक  मनुष्य   जब   अपने     ---- अधिकार  और  कर्तव्य  ----   दोनों  के  प्रति  जागरूक  होगा   तभी  समस्या  हल  हो  सकती  है   l 

No comments:

Post a comment