Wednesday, 20 September 2017

WISDOM ----- वेश - विन्यास से अपनी राष्ट्रीयता और संस्कृति का परिचय मिलता है

 चिकित्सा  विशेषज्ञों  का  मानना  है  कि  तंग  वस्त्र  और  शरीर  का  प्रदर्शन  करने  वाले  वस्त्र   स्वास्थ्य  की  द्रष्टि  से  उपयुक्त  नहीं  हैं  l   अपनी  संस्कृति  के  प्रति  श्रद्धा  रखने  वाले  लोगों  का  विचार  है  कि    ऐसे  वस्त्रों  में  विवेकहीनता  और  फूहड़पन  झलकता  है   l   अपने  देश ,  अपनी  संस्कृति   के  अनुरूप  पहनावा  ही  इस  बात  कि  सूचना  देता  है  कि  हम  राजनीतिक  रूप  से  ही  नहीं  ,  मानसिक  और  संस्कृतिक  रूप  से  भी  स्वतंत्र  हैं  l
  बात  उन  दिनों  कि  है  जब  विश्वविख्यात   रसायन  वैज्ञानिक   डॉ. प्रफुल्लचंद्र  राय  कलकत्ता  विश्वविद्यालय में  प्रोफेसर  थे  l   पूरे  देश  में  स्वाधीनता  के  लिए  राष्ट्रीय  भावनाएं  हिलोरें  ले  रहीं  थीं  l   डॉ.  प्रफुल्लचंद्र  राय   का  अंतर्मन  इनसे  अछूता  न  रह  सका   l   अपने  वैज्ञानिक  कार्यों  के  बीच   राष्ट्र प्रेम  को  किस  तरह  निभाएं   ?  यह  जानने  के  लिए  वे  गांधीजी  से  मिलने  गए   l
          गांधीजी  ने  उन्हें  ऊपर  से  नीचे  तक  देखा  और  कहा --- " राय  महाशय  !  इतनी  भी  जल्दी  क्या  थी  जो  आप  ऐसे  ही  चले  आये  l "   महात्मा  गाँधी  कि  बात  ने  उन्हें  हैरानी  में  डाल  दिया  ,  तब  गांधीजी  ने     कहा ---- ------             " विदेशी  ढंग  के  कपड़े  पहन  कर  सही  ढंग  से  राष्ट्र  सेवा  नहीं  की  जा  सकती   l  राष्ट्रीय  मूल्य , राष्ट्रीय  भावनाएं   एवं  राष्ट्रीय  संस्कृति  ,  इन  सबकी  एक  ही  पहचान  है , अपना  राष्ट्रीय  वेश - विन्यास  l "  अब  बापू    बातें  प्रोफेसर  राय   की    समझ  में  आ  गईं  l  उस  दिन  से  उन्होंने  अपना  पहनावा     पूरी  तरह  बदल  डाला  l  देशी  खद्दर  का  देशी  पहनावा   जीवन  के  अंतिम  क्षणों  तक  उनका   साथी  रहा   l 

No comments:

Post a comment