Wednesday, 13 September 2017

बच्चों तुम तकदीर हो कल ------- ?--? __-- ?---

   बच्चे  ही  किसी  देश  का  भविष्य  होते  हैं    लेकिन   जहाँ    छोटी  सी  उम्र  के  कोमल  बच्चों  को  मार  दिया  जाता  हो  ,  ऐसी  घटनाओं   से   अन्य  बच्चे    भयभीत  हों   और  भय  के  वातावरण  में  पल कर  युवा  हों   तो   वह  समाज  कैसा  होगा  ?  इसकी  कल्पना  की  जा  सकती  है  l
   दंड  का  भय  समाप्त  हो  जाये ,  अपराधियों  को  संरक्षण  देने  वाले  अनेक  ' आका '  हों    तो  ये  अपराध  कैसे  रुकेंगे  l   सर्वप्रथम  हमें  ऐसे  लोगों  को  ' जो   छुप  कर  निहत्थे   और  मासूम  बच्चों '   की   अमानवीय  तरीके  से   हत्या  करते  हैं ,  और  जो  इन्हें  पनाह  देते  हैं ,  उन्हें  एक ' नाम ' देना  पड़ेगा  क्योंकि  यह  केवल  हत्या  नहीं  है ,   देश  के  भविष्य  के  साथ  खिलवाड़  है   l 

No comments:

Post a Comment