Tuesday, 26 September 2017

मनुष्य को स्वयं ही सुधरना होगा

 समाज  में  अशांति  हो ,  लोग  मर्यादाहीन  आचरण  कर  रहे  हों ,   असुरता  बढ़  रही  हो  ----  और  हम  सोचें  कि  भगवान  आयेंगे  ,  फिर  सब  ठीक  हो  जायेगा  --- यह  असंभव  है  l  महिलाओं  पर  बढ़ते  अत्याचार ,  उन्हें  अपमानित  व  उपेक्षित  करना  ---- ये  सब  ऐसी  बातें  हैं  जिनका  प्रभाव  दीर्घकालीन  होता  है   और  ये   घटनाएँ  परिवार , समाज  सब  जगह  अशांति  उत्पन्न  करती  है    l
  पुरुषों  ने  युगों  से    नारी  को  अपनी  दासी  समझा  है   और  हर  तरह  से  अत्याचार  किया  है  l   अनेक  महान  पुरुषों  के  प्रयासों  से  जब  महिलाएं  आगे  बढ़  रही  हैं   तो   अब  पुरुष  वर्ग  यह  सहन  नहीं  कर  पा  रहा  ,  उनकी    नारी  जाति  के  प्रति  ईर्ष्या  बढ़  गई  है  l   बाहरी  जीवन  में  पुरुष  केवल  उन्ही महिलाओं    की    उपस्थिति  को  स्वीकार    करते  हैं   जो  उनके  भ्रष्टाचार   में  सहयोग  दे ,  उनके  इशारों  पर  काम  करे       महिलाओं  पर  अत्याचार  की  घटनाओं  से   नारी  तो  अपमानित , उत्पीड़ित  होती  है  ,  ऐसी  घटनाओं  से  सम्पूर्ण  पुरुष  जाति     नारी    की    निगाहों  में  अपना  सम्मान  खो  देती  है  l   नारी  को  तो  अपमान ,  उपेक्षा  सहने  की  आदत  बन  चुकी  है  ,  लेकिन  जब  पुरुष  वर्ग  को  सम्मान  नहीं  मिलता  तो  उनमे  हीनता  का  भाव  पैदा  हो  जाता  है   l
  ऐसी  समस्या  से  निपटने  के  लिए   समाज  के    सम्भ्रांत  पुरुषों  को  ही  आगे  आना  होगा    जो   मर्यादाहीन  आचरण  करने  वाले  लोगों  पर  लगाम  लगायें    l  श्रेष्ठ   आचरण  से  ही    समाज  में  सुधार  संभव  है  ,  '    बाबाओं '  ने  तो  समाज  को  पतन  के  गर्त  में  धकेलने  में  कोई  कसर  नहीं  छोड़ी   l 

No comments:

Post a comment