Saturday, 9 September 2017

दंड का भय न होने से समाज में अशांति बढती है

    हमारे  आचार्य  , ऋषि - मुनि   का  कहना  था  कि   अपराधियों  को  कभी  माफी  नहीं  मिलनी  चाहिए   l  इसका  समाज  पर  बुरा  प्रभाव  पड़ता  है  ,  लोगों  में  दंड  का  भय  समाप्त  हो  जाता  है  l  
  आज  के  समय  में  लोग   बड़े - बड़े  अपराध  करते  हैं    और  समर्थ  लोगों  से  अपना  जुड़ाव   रख  कर  सजा  से   बच   जाते  हैं    l   यदि  पकडे  भी  गए   तो   जमानत  पर  छूट  गए   और  वर्षों  तक   खुले  घूमते  हैं ,  ठाठ - बाट  का  जीवन  जीते  हैं   l  उनके  सहारे   अनेक  लोगों  के  गैर - क़ानूनी  धन्धे  और  काले - कारनामे  चलते  हैं  l   ऐसे  में   अपराधियों  की  श्रंखला  बहुत  बड़ी  हो  जाती  है   l   

No comments:

Post a comment