Friday, 15 September 2017

वर्तमान के आधार पर ही भविष्य का निर्माण होता है

  सुनहरे  भविष्य  के  लिए  हमें  वर्तमान   में  ही  प्रयास  करना  होगा  l  बालक - बालिकाओं  का  जीवन  सुरक्षित  न  हो ,  युवा  पीढ़ी  के  जीवन  को  सही  दिशा  न  हो ,  अश्लीलता  अपने  चरम  पर  हो   और  जो  समर्थ  हैं  वे  धन , पद  और  प्रतिष्ठा   की   अंधी  दौड़  में  लगे  हों  ,  तो  भविष्य  कैसा  होगा  ?
    आज  लोगों  का  अहंकार  इस  कदर  बढ़  गया  है  कि   वे  बच्चों  को  निशाना  बना  कर ,  देश  के  भविष्य  पर , संस्कृति  पर  वार  कर   अपने   अहंकार  को  पोषित  कर  रहे  हैं   l
 जिस  प्रकार  दंड  का  भय  न  होने  से   व्यक्ति  अपराध  करता  है , अनैतिक  और  अमानवीय  कार्य  करता  है  ,      यदि  कठोर  दंड  का  भय  हो  तो  लोग  अपराध  करने  से  डरेंगे   जिससे  वातावरण  में  सुधार  होगा  l 

No comments:

Post a comment