Wednesday, 10 June 2015

शरीर के साथ मन का स्वस्थ होना जरुरी है

आज  की   सबसे  बड़ी  विडम्बना  यह  है  कि  व्यक्ति  ने  अपना  सारा  ध्यान  शरीर  को  स्वस्थ  रखने  पर  केन्द्रित  कर  लिया   है   और  मन  जो  इन्द्रियों  का  राजा  है  उसे  स्वस्थ  रखने  का  कोई   प्रयास  नहीं  करता  है  | मन  के  विकार  से  ही  शरीर  में  विकार  उत्पन्न  होते  हैं  । यदि  हम  पूर्ण  स्वस्थ  रहना  चाहते  हैं  तो  हमें  अपने  मनोभावों  कों  सुधारना  होगा  ।
  मन  के  दोष  से  ही  शरीर  में  रोग  उत्पन्न  होते  हैं  । जब  व्यक्ति  के  शरीर  में  कोंई  रोग  हो  जाता  है  तो  वह  लाखों  रूपये  दवाई, इंजेक्शन  पर  खर्च  करता  है,  इससे  कुछ  समय  के  लिए  बीमारी  ठीक  भी  हो  जाती  है  लेकिन  फिर  कुछ  समय  बाद  एक  न  एक  बीमारी  होती  रहती  है  ।
  यदि  हम  प्रतिदिन  के  योगाभ्यास  के  साथ  यह   संकल्प  लें  कि  हम  अपनी  बुराइयों  को  दूर  करेंगे,  मन  को  शुद्ध  और  पवित्र  बनायेंगे  । जितनी  मात्रा  में  मन  निर्मल  होगा  उतना  ही  आप  स्वस्थ  और  भीड़  से  अलग   दिखाई  देंगे  ।
मन  को  स्वस्थ  और  निर्मल  बनाने  का  प्रयास  व्यक्ति  कों  स्वयं   करना   पड़ता  है,  श्रेष्ठ  साहित्य  से  हमें  दिशा  मिलती  है  और  निष्काम  कर्म   से  मन  के  विकार  दूर  होते  हैं  । 

No comments:

Post a comment