Saturday, 20 June 2015

जीवन जीना सीखें

जीवन  जीना  एक  कला  है--- हमें  इस  सत्य  को  समझना  होगा  कि  संसार  केवल  फूलों  का  बगीचा  ही  नहीं  है  वरन  इसमें  काँटे  भी  है  ।  आज  की  आपा-धापी  की  जिंदगी  में  तो  काँटों  की  ही  प्रधानता  है  ।
योग  का  उद्देश्य  शरीर,  मन  व  आत्मा  को  इस  प्रकार  प्रशिक्षित  करना  है,  जिससे  वे  विपरीत  परिस्थितियों  में  भी  अपना  सन्तुलन  स्थिर  रख  सकें  । योग  द्रष्टि  को  अपनाकर  प्रत्येक  परिस्थिति  में  मनुष्य  मन  को  संतुलित  और  शांत  रख  सकता  है  । 
    योग  की  सार्थकता  तभी  है  जब  हम  इस  बात  का  संकल्प  लें  कि  हम  अपने  मन  को  समझाकर,  मन  की  दुष्प्रवृत्तियों  को  दूर  करेंगे  और  सद्गुणों  को  अपनायेंगे  ।   वे  सब  साधन  जो  हमारे  विचारों  को  प्रदूषित  करते  हैं,  हमारी  शारीरिक  और  मानसिक  शक्ति  को  क्षीण  करते  हैं,  उनका  त्याग  करेंगे  ।
   विचारों  की  पवित्रता  से  हमारा   मन  एकाग्र  होने  लगेगा,  आत्म  विश्वास  बढेगा   । 

No comments:

Post a comment