Saturday, 6 June 2015

सुख-शांति से जीने के लिए जीवन को सरलता से जियें

हम  योगी  नहीं  हैं,  सन्त-महात्मा  भी  नहीं  है,   हम  एक  सांसारिक  प्राणी  हैं , जिसका  एक  पारिवारिक  जीवन  है,  विभिन्न  जिम्मेदारियां  हैं  । हम  संसार  के  सब  सुख  भी  चाहते  हैं,  स्वस्थ  रहना  भी  चाहते  हैं  ताकि  उन  सुखों  को  भोग  सकें  । इसके  साथ  हम  यह  भी  चाहते  हैं  कि  हमें  कोई  तनाव  ना  हो,  मन  में  शान्ति  हो,  सुख  के  साथ  आनंद  भी  हो  |
यह  स्थिति  तब  संभव  है  जब  हम  जीवन  को  सरलता  से  जियें--- जो  ईश्वर  ने  हमें  दिया  है,  हमारे  पास  है  उसमे  खुश  रहें  ।  जो  कुछ  हम  पाना  चाहते  हैं  उसके  लिए  धैर्य  के  साथ  सही   दिशा  में  प्रयास  करें  ।
 आज  के  समय  में  भ्रष्टाचार  और  बेईमानी  इतनी   बढ़  चुकी  है,  लोगों  में  लालच ,  छल-कपट  इतना  बढ़  गया   है  कि  वे  दूसरों  को  आगे  बढ़ने  नहीं  देते,  जो  लोग  सच्चाई  से  जीना  चाहते  हैं,  उन्हें  विभिन्न  तरीके  से  परेशान  करते  हैं  ।
आज  संघर्ष  है----- अच्छाई  और  बुराई  का  ।  यदि  हम  श्रेष्ठता  की  राह  पर  चलते  हैं,  जीवन  की  व्यस्तता  के  साथ  सत्कर्म  करते   हैं  तो  निश्चित  है  कि  जीत  अच्छाई  की  होगी  ।
  बुराई  को  हराने  के  लिए  जरुरी  है  कि  अच्छाई  संगठित  हो,  और  हमारे  पास  सत्कर्मों  की  ताकत  हो  ।
       आज  के  युग  की  जरुरत  है---- हम  कर्मयोगी  बने  । 

No comments:

Post a Comment