Saturday, 27 June 2015

सुखी और स्वस्थ जीवन व्यक्ति के सत्कर्मों का ही प्रतिफल है

कोई  व्यक्ति  उच्च  पद  पर  है,  नेता  है,  धन-संपन्न,  वैभवशाली  है,  यह   निश्चित  ही  उसके  परिश्रम  और  पुण्य  का  प्रतिफल  है  | लेकिन  उस  ऊंचाई  पर  प्रतिष्ठित  रहना,  स्वस्थ  रहना,  शेष  जीवन  शान्ति  और  सम्मान  के  साथ  जीना  सत्कर्मों  से  ही  संभव  है  ।
बहुत  से  व्यक्ति  ऐसे  हैं  जो  प्रतिष्ठित  पद  पर  पहुंचकर,  नेता  बनकर  जनता  की  भलाई    के,  सेवा   के  अनेक  कार्य  करते  है  लेकिन  सब  कुछ  होते  हुए  भी  सुख-चैन   नहीं   होता   ।
 कुछ   पद  ऐसे  है  जिन  पर  बैठे  व्यक्ति  का  नाम  चलता  है  |  जब  व्यक्ति  ऊँचे  स्थान  पर  होता  है  तो  उसके  अनेक  मित्र,  रिश्तेदार,  सगे-सम्बन्धी  बन   जाते  हैं,  ये  लोग  ही  उस ' नाम '  का  सहारा  लेकर  विभिन्न  संस्थाओं  में,  मोहल्ले  में  नेतागिरी  करते  हैं,  उनके  नाम  का  सहारा  लेकर  भ्रष्टाचार,  अन्याय  और  अत्याचार  कर  लोगों  को  उत्पीड़ित  करते  है  । उच्च  पद  पर  बैठे  व्यक्ति  इतने  व्यस्त  होते   हैं   कि  उन्हें  इन  सब  बातों  की  पूर्ण  जानकारी  ही  नहीं  होती  ।
लेकिन  ईश्वर  तो  अन्तर्यामी  है,  प्रकृति  अपना  काम  करती है---- ऐसे  मित्रों,  रिश्तेदारों  और  आश्रितों  द्वारा    उनके  नाम  का  सहारा  लेकर किये  जाने  वाले   पापकर्म,  उस  उच्च पद  पर   बैठे  व्यक्ति  के  पुण्यों को  क्षीण  कर  देते  हैं,  उसकी  नीँव  को  खोखला  कर  देते  हैं  । ----
अत:  पद-प्रतिष्ठा  और  संपन्नता  के साथ  स्वस्थ  और शान्तिपूर्ण  जीवन  जीने  के  लिए  सतर्कता  और  जागरूकता   भी  बहुत  जरुरी  है  । 

No comments:

Post a comment