Tuesday, 30 June 2015

मानसिकता दूषित होने से समाज में अशांति होती है

मनुष्य  एक  सामाजिक  प्राणी  है  और  एक  व्यक्ति  के  कार्यों  का  सम्पूर्ण  समाज  पर  प्रभाव  पड़ता  है  |
 साहित्य,  फ़िल्म,  नृत्य  आदि  को  देखने,  पढ़ने  से  लोगों  की  मानसिकता  प्रभावित  होती  है  ।  यदि  ये  सब    उच्च  स्तर  का  है  तो  लोग  भी  उच्च  दिशा  में  आगे  बढ़ते  हैं  |
यदि  कोई  बात  चित्र  से  समझाई  जाये  तो  जल्दी  समझ  में  आती  है  । यह  हमारा  दुर्भाग्य  और  दुर्बुद्धि  है  कि   फिल्म  के  कलाकारों   के   सजीव  अभिनय  को  देखकर  जब  लोग  ताली  बजाते  हैं,  वाह ! वाह!  करते  हैं,  वही  द्रश्य  मन  की  शान्ति  को  छीन  लेते  हैं  ।  फिल्मों  में  विभिन्न  अपराधों,  हिंसा  आदि  का  सजीव  अभिनय    लोगों  के  ह्रदय-पटल  पर  अंकित  हो  जाता  है,  अपराधी  मनोवृति  के  लोग  ऐसा  सजीव  अभिनय  देखकर  सब  सीख  जाते  हैं,  यही  सब  उनके  विचारों  में  चलता  रहता  है  जो  समय-समय  पर  समाज  में  अपराधिक  गतिविधियों  के  रूप  में  दिखायी  देता  है  ।
  यह  स्थिति  दोनों  पक्षों------ देखने  वाले  और  दिखाने  वाले--- के  लिए  घातक  है  । 

No comments:

Post a comment