Wednesday, 24 June 2015

सुख-शान्ति से जीने के लिए समाज को बदलना होगा

समाज में दो  ही  वर्ग हैं----- शोषक  वर्ग  एवं  शोषित  वर्ग   ।      शोषित वर्ग  में  वे  लोग  हैं  जो  गरीब  हैं,  भूख ,  बीमारी,  कुपोषण  और  शोषण  से   पीड़ित  हैं  |
शोषक  वर्ग  में  ऐसे  लोग  हैं  जिनकी  आवश्यकताएं  पूरी  हो  चुकी  हैं,  लेकिन  इच्छाएं  पूर्ण  नहीं  हुईं  |  असीमित  इच्छओं  को  पूरा  करने   के  लिए  ये  वर्ग  कमजोर  का  शोषण  करते   हैं,  उनका  हक  छीनते  हैं,  अपने  अहंकार  की  पूर्ति  के  लिए  उन  पर  अत्याचार   करते  हैं  ।
   परिणाम  देखें  तो---- गरीब  व्यक्ति   गंदगी,  कुपोषण  आदि  कारणों से  बीमार  पड़ता  है  और  सरकारी  अस्पताल  से,  सस्ते  दवाखानों  से  अपना  इलाज  करा  लेता  है  |
        लेकिन  दुनिया  के  जितने  भी  बड़े  और  महंगे  अस्पताल  हैं  वो  अधिकांशत  उन  लोगों  से  भरें  हैं  जिनके  पास  स्वस्थ  रहने  के  सारे  साधन  मौजूद  हैं   ।  इसके  अलावा  उनके  पास  बुद्धि  भी  है  कि  कैसे  आसन,  व्यायाम  करके  शरीर  को  स्वस्थ  रखें  ।
  दूसरों  को  अशांत  करके  कभी  शान्ति  नहीं  मिल सकती,  किसी  को    कुपोषण,  बीमार  और  गई-गुजरी  हालत  मे  रहने  को  विवश  करके  अपने  अच्छे  स्वास्थ्य  की  उम्मीद  नहीं  की  जा  सकती
  संपन्न  और   समर्थ  वर्ग   को   स्वयं  को बदलने की  जरुरत  है  ।   कमजोर  का  शोषण   न  करके  उन्हें  ऊँचा  उठाने  की  नीति  अपनाएं  तो  सुख-शान्ति  अपंने  आप  खिंची  चली  आएगी  । 

No comments:

Post a Comment