Friday, 26 June 2015

विचारों में परिवर्तन अनिवार्य है

विचारों  में  परिवर्तन  के  लिए  हमारे  अन्दर  समझ  का,  संवेदना  का  विकसित  होना अनिवार्य  हैं  ।
आज  हम  देखते  हैं  कि  प्रत्येक  व्यक्ति  अपने  कर्तव्य  से  भाग  रहा  है  और  उसे अपनी  गलती  का अहसास तक नही  है   । मनुष्य  एक  सामाजिक  प्राणी,  इस कारण  उसके  परिवार,  समाज   और  देश  के  प्रति  अनेक  कर्तव्य  है  ।
अब  प्रत्येक व्यक्ति को   स्वयं  देखना  ही  कि  वह  अपने   कर्तव्यों   का  पालन  कहाँ  तक  कर  रहा  है  |
फिर  कर्तव्य  पालन  में  जहां  चूक  की,   कर्तव्य   से  ज़ी  चुराया,    उसकी  तुलना   अपने  जीवन   के   कष्ट,  बीमारी,  दुःख,  अशांति  से  करे  ।  यह  तत्काल  ही  स्पष्ट  हो  जायेगा   कि  अपने  कर्तव्य  का  पालन   जितनी  मात्रा  में  नहीं  किया  जायेगा,  उतनी  ही  मात्रा  में  जीवन  मे  दुःख  व  अशांति  है  ।
  आज   समाज   में  हर  क्षेत्र  में  जो  भ्रष्टाचार,  मिलावट,  बेईमानी,  अपराध,  चोर-बाजारी  आदि  दुष्प्रवृत्तियां  हैं--- इनका  कारण  ही  है---- व्यक्ति   का  कर्तव्य  के  प्रति  ईमानदार  न  होना  ।
अत;जब  व्यक्ति  में  यह  समझ  विकसित  होगी  कि  अपनी  गलतियों  की  वजह  से  ही  वह  स्वयं  अशांत  है  और  समाज  मे  भी  अशांति  फैला  रहा  है---- तब  व्यक्ति  अपने  सुधार  की  दशा  में  एक  कदम  बढ़ायेगा  तभी  सम्पूर्ण  समाज  में  सुधार  संभव  है  । 

No comments:

Post a comment