Saturday, 2 April 2016

सुख - शान्ति से जीना है तो दूसरों के वैभव से प्रभावित न हों

अधिकांश  लोग  दूसरों  का  वैभव ,  पद - प्रतिष्ठा  देखकर  बड़ी  जल्दी  प्रभावित  हो  जाते  हैं  ,  फिर  उन्हें  अपने  सुख  दिखाई  नहीं  देते   । दूसरों  के  ठाट - बाट  अपने  दिलोदिमाग  पर  इतना  छा  जाते  हैं  कि  फिर  उन्हें  अपना  जीवन  खोखला  प्रतीत  होने  लगता  है  ,  मन  में  निराशा  और  हीन  भावना  आ  जाती  है  ।
       सम्पूर्ण  समाज  इतनी  जल्दी  नहीं  बदल  सकता  कि  धन  को  महत्व  न  दे  लेकिन  प्रत्येक  व्यक्ति  की  जिन्दगी  उसकी  अपनी  है   शान्ति  से  जीना  है  तो  जो  ईश्वर  ने  दिया  उसमे  संतोष  रखे  और  निरंतर  अपने  परिश्रम ,  लगन  और  धैर्य  के  साथ  सही  दिशा  में  आगे  बढ़ने  का  प्रयास  करे  ।
   धन  को  बहुत   महत्व   देने  के  कारण  ही  संसार  में  अशान्ति  है  ।
                 अमीर  बनने   की  चाहत  में  ही  व्यक्ति   समाज  का  हित  नहीं  देखता  केवल  अपना  हित  देखता  है   ।  लालच  की  वजह  से  व्यक्ति  की  बुद्धि  भ्रष्ट  हो  जाती  है   ---- कॉलोनी   बसाने   के  लिए  जंगल  और  पहाड़  काट  डालते  हैं  , चोरी  छुपे  शराब ,  मांस ,  हथियार  और  न  जाने  क्या -क्या  बेच  डालते  हैं    |   जब  लोग  ऐसे  व्यक्तियों  को  महत्व  नहीं  देंगे    , अच्छे  लोगों  को  चाहे  उनके  पास  धन  कम  है  ,  महत्व  देंगे  तो   कम  से  कम  ऐसे  व्यक्ति  विशेष  का  जीवन  तो  शान्ति  से  बीतेगा  ,  फिर  उसकी  शान्ति  से  अन्य  लोग  भी  प्रभावित  होंगे  । 

No comments:

Post a comment