Saturday, 30 April 2016

लोग अशान्त व परेशान क्यों हैं ?-------

 विभिन्न  संस्थाओं  में  ,  कार्यालयों  में  ,  समाज  में  परिवार  में  ,  सभी  क्षेत्रों  में    जिन  लोगों  ने  नेताओं ,  अधिकारियों  व  ताकतवर  लोगों  से   निकटता  हासिल  कर  ली  है   वह  अपने  क्षेत्र  के  लोगों  पर  अत्याचार  करते  हैं  ,  अन्याय  करते  हैं   ।   विडम्बना  यह  है  कि  अन्याय  सहने  वाले   इसे  अपना  दुर्भाग्य ,  पिछले  जन्म  के  कर्म  ,  भाग्य  का  खेल  समझ  कर  चुपचाप  सहन  करते  हैं   ।
  लोग  भाग्यवादी  हैं ,  आततायी  का  सामना  करने  के  लिए  उठ  खड़े  नहीं  होते ,  मुकाबला  नहीं  करते  ।  इसलिए  अत्याचारी  के  हौसले  बढ़ते  जाते  हैं  ,  उनका  संगठन  बढ़ता  जाता  है  ,  इसी  के  परिणाम  स्वरुप  समाज  में  अशान्ति  होती  है  ।
  इसी  भाग्यवादिता  के  कारण  हमने  युगों  तक  गुलामी  सही  ।   कई  अंग्रेज  जो  भारत  से   सहानुभूति  रखते  थे ,  वे  कहते  थे  --- भारत  के  लोग  किस  मिट्टी  के  बने  हैं ,  इतना  अत्याचार  सहते  हैं  पर  उफ  तक  नहीं  करते  ,  उसका  मुकाबला  करने  के  लिए  खड़े  नहीं  होते  ।
  लोग  भाग्यवादी  हैं ,  सोचते  हैं  भगवान  आयेंगे ,  अत्याचारियों  को  सजा  देंगे   ।   भगवान  आयेंगे  अवश्य    लेकिन  तब  जब     हम    नींद  से  जागेंगे  ।  उनके  विरुद्ध  संगठित   प्रयास  करेंगे   तब  निराकार   ईश्वर   हमारे  ह्रदय  में  प्रवेश    कर   हमें  शक्ति ,   व  सद्बुद्धि  देंगे    ।   पहला  कदम  तो  हमें  उठाना  ही  होगा  ।
सत्कर्म  की    ढाल  हाथ  में  लेकर   अत्याचारी  से  मुकाबला  करना  चाहिए  ।















No comments:

Post a Comment