Tuesday, 13 December 2016

अशान्ति की एक वजह है ----- चापलूसों पर निर्भर रहना

   कोई  छोटी  से  छोटी  संस्था  हो  या  बड़ी  से  बड़ी  संस्था  और  संगठन  हो     ,  उनमे  अनेक  लोग  अपने  अधिकारी  को  खुश  रखने  के  लिए  उसकी  चापलूसी  करने  लगते  हैं  ,  उसकी  हाँ  में  हाँ   मिलाते    हैं  उसे  खुश  रखने  के  लिए  उसके  गलत  कार्यों  की  भी  तारीफ  करते  हैं   |   गलती  को  न  सुधारने  से    वह  धीरे - धीरे  बढ़ती  जाती  है  ,  ऐसे  व्यक्ति  फिर  अनेक  क्षेत्रों  में  गलतियाँ   करते  हैं  ,  इन  गलतियों  से  जो  व्यक्ति  प्रभावित  होते  हैं   वे  अशांत  और  परेशान  होते  हैं  ।
     आज  के  समय   में    चापलूसों  का  साम्राज्य  इतना  बढ़  गया  है  कि  वे  अपनी  संस्था  या  संगठन  के  कार्यों  और  निर्णय   में  भी  दखल  देते  हैं  ।  अब  क्योंकि  लोगों  के ह्रदय  में  संवेदना  नहीं  है  ,   अधिकांश  व्यक्ति   ऐसे  हैं  जो  अपना   स्वार्थ  तो  पूरा  करना  चाहते  हैं    लेकिन  इसके  साथ  वो  चाहते  हैं  कि  दूसरे  का  नुकसान  हो  ,  दूसरा  व्यक्ति  चैन  से  न  रह  पाये  ।  ऐसी    मानसिकता  से  ही   समाज  में   असंतोष  व  अशान्ति  बढ़ती  है    ।
  आज  की  सबसे  बड़ी  जरुरत  है  कि  लोगों  के  ह्रदय   में  संवेदना  हो  ,  विचारों  में  शुद्धता  हो   । 

No comments:

Post a comment