Saturday, 3 December 2016

कर्मयोगी बन कर ही सुख से रहा जा सकता है

       आज  के  समय   में  जब  पाप , अपराध , भ्रष्टाचार ,  अत्याचार , अन्याय  बढ़ता  ही  जा  रहा  है  ,  ऐसी  स्थिति  में  अपने  अस्तित्व  की  रक्षा  करने  के  लिए  व्यक्ति  को  कर्मयोगी  बनना  होगा   ।  इसके  लिए  कर्तव्यपालन  में  ईमानदारी   और  नैतिकता  होनी  चाहिए   ।   बुराई  का  साम्राज्य  बहुत  बड़ा  और  संगठित  है   ,   उसका   सामना  करने  और  स्वयं  को  सुरक्षित  रखने  के  लिए  दैवी  कृपा  की  जरुरत  है  ।
           मनुष्य  बुराई  की  तरफ  बड़ी  जल्दी  आकर्षित  हो  जाता  है    लेकिन  ईश्वर  अच्छाई  की  ओर  आकर्षित  होते  हैं  । इसलिए    जो  लोग  सद्गुणी  हैं ,  सन्मार्ग  पर  चलते  हैं ,  निष्काम  कर्म  करते  हैं  उन्हें  दैवी  सहायता  प्राप्त  होती  है   जो  तमाम  मुसीबतों  से  उनकी  रक्षा  करती  है    ।
    जैसे  दुर्योधन  के  पास  भगवान  कृष्ण  की  ग्यारह  अक्षोहिणी    सेना   थी  एक से  बढ़कर  एक  वीर  राजा  उसके  पक्ष  में  थे   ,  फिर  भी  महाभारत  के  युद्ध  में   वह  बन्धु - बान्धवों  समेत  मारा  गया  ।    लेकिन   पांडव  अकेले  थे ,  वे  धर्म  और  न्याय  पर  थे  ,  उनके  साथ  भगवान  कृष्ण  स्वयं  थे  ,  वे  निहत्थे  थे  लेकिन  उनका  आशीर्वाद  पांडवों  के  साथ  था  ,  इसलिए  पांडव  विजयी  हुए   । 

No comments:

Post a comment