Thursday, 8 December 2016

जब जागो तब सवेरा

    जो  लोग  अपनी  इच्छा  से ,  अपनी  किसी  कमजोरी  के  कारण  या  किसी  मजबूरीवश  गलत  राह  पर  चल   पड़े  हैं  ,  वे  यदि  इस  सत्य  को  समझते  हैं  कि  उनकी  राह  गलत  है  ,  उनके  ह्रदय  में  इस  बुरे  मार्ग  को  छोड़ने  की  तड़प  है    तो  वापस  लौटने के    उनके   लिए  सारे  मार्ग  खुले  हैं   ।  जरुरी  है  दृढ  संकल्प  की    ।   ईश्वर   से  प्रार्थना  करनी  चाहिए  कि  वे  सन्मार्ग  पर  चलने  की  शक्ति  प्रदान  करें   ।
  सुख  शान्ति  से  जीना  है  तो  अपनी   दुष्प्रवृत्तियों  को    छोड़कर     सही  मार्ग  पर  चलना   ही  होगा   । 

No comments:

Post a comment