Friday, 16 December 2016

दण्ड का भय न होने से समाज में अपराध बढ़ते हैं

       कहते  हैं  जिस  बात  की  ज्यादा  चर्चा  करो  वह  बात  बढ़ती  जाती  है   ।  विभिन्न  समाचारों  में  देश - दुनिया  में  महिलाओं  के  प्रति ,  छोटी  बच्चियों  के  प्रति  जो  अपराध  होते  हैं ,  उसे  बड़े  विस्तार  से  बताया  जाता  है    ।  लेकिन  ऐसे  जघन्य  अपराध  करने  वालों  को  क्या   दंड  मिला  -- प्रकृति  से ,  समाज  से ,  कानून  से  क्या  दण्ड  मिला  ,  इसका  ऐसा  वर्णन  नहीं  मिलता   कि  ऐसी  अपराधी  प्रवृति  के  लोगों  के  दिल  में   ऐसा  भय  समा  जाये  कि  अपराध  करने  के  लिए     कदम  ही  न  उठें  ।
     श्रेष्ठता  की  राह  पर  चलना  बड़ा  कठिन  है ,  लेकिन  पतन  की  राह  सरल  होती  है  ,  पानी  बड़ी  तेजी  से  नीचे  की  और  गिरता  है   ।    दण्ड ,  सामाजिक  बहिष्कार    जैसा  कोई  भय  ही  न  हो   तो    पाशविक  प्रवृति  ,  चरित्र  की  गिरावट    की  कोई  सीमा  नहीं  रह  जाती  ।
  चरित्रहीनता   भी  एक  संक्रामक  रोग  की  तरह  है     जो  अमीर - गरीब ,  ऊँच - नीच ,   बूढ़े ,  जवान ,  बच्चे  हर  किसी  को  अपनी  गिरफ्त  में  ले  लेती  है    ।  परिवार  टूटते  हैं ,  सामाजिक  जीवन  भी  दिखावे  और  स्वार्थ  का  हो  जाता  है   ।   श्रेष्ठ  चरित्र  से  ही    संस्कृति   की  रक्षा  संभव  है  । 

No comments:

Post a comment