Thursday, 15 December 2016

सुख - शांतिपूर्ण समाज के लिए एक मजबूत आधार की जरुरत है

  केवल  धन ,  पद  और  भौतिक  सुख सुविधाएँ  होने  से  जीवन  में  सुख  नहीं  आता   ।  महत्वपूर्ण  बात  ये  है  कि  जिन   कारणों  से  परिवार  और  समाज  में  अशांति  और  अपराध  होते  हैं  उन्हें  सख्ती  से  दूर  किया  जाये    जैसे ---- नशे  से  अनेकों  परिवार  चौपट  हो  रहे  हैं  ,   नशा  करने  वाले  चाहे  अमीर  हों  या   मजदूर  हों   या  उच्च  पदों  पर  कार्य  करने  वाले  हों  --- यदि  उन्हें  नशे  की  आदत  है    तो  वे  देश  के  विकास  में  ,  एक   सुन्दर  समाज  के  निर्माण  में  कोई  योगदान  नहीं  दे  सकते  ,  उनके  दिमाग  में  हरदम  नशा  ही  घूमेगा   ।   इस लिए  नशे  पर  नियंत्रण   जरुरी    है   ।
  इसी  तरह    जो  लोग  अश्लील  फ़िल्में  देखते  हैं ,  निम्न  स्तर  का  साहित्य  पढ़ते  हैं   वे  भी  कभी  कोई  सकारात्मक  कार्य  नहीं  कर  सकते  ,  यह  प्रवृति  ही  समाज  में  अपराध  को  जन्म  देती  है  ,  चरित्र  की  इस  कमजोरी  की  वजह  से  ही  परिवारों  में  कलह  होती  है ,  बच्चे  राह  भटक  जाते  हैं   |
  स्वयं  के  सुधार   से  ही  एक  श्रेष्ठ  समाज  का  निर्माण  संभव  है  l 

No comments:

Post a Comment