Friday, 23 December 2016

अशान्ति का कारण है दूसरों को अपमानित करना

    संसार  में  अमीर - गरीब ,  ऊँच - नीच ,  कमजोर  - शक्तिसंपन्न  ,  मालिक - नौकर  के  बीच  जो  अन्तर  है ,  वह  इतना  दुःखद  नहीं  है  ।  समाज  में  अशान्ति  और  असंतोष  उत्पन्न  होने  का  बहुत  बड़ा  कारण  है  कि ---- जो  लोग  धनवान  हैं ,  शक्ति संपन्न  हैं  ,  उनमे   अहंकार  होता  है    और  इस  अहंकार  की  तृप्ति  न  होने  के  कारण  वे    लोगों  की  खिल्ली   उड़ा  कर ,  उनका  तिरस्कार  कर   अपने  को    बहुत  बड़ा   और  हर  तरह  से  योग्य  सिद्ध  करने  की  कोशिश  करते  हैं   ।
     कई  लोग  अपमान  व  तिरस्कार  सहन  कर  उसे  अपनी  ताकत  बना  लेते  हैं  और  उन्नति  के  शिखर  पर  आगे  बढ़ते  जाते  हैं   ।   निरन्तर  अपमान  व  तिरस्कार  सहने  वाले  को   यदि  कहीं  अपनापन  और  सम्मान  मिले  तो  उसका  झुकाव  उस   ओर   हो  जाता  है   ।    यदि  अपनापन  और  सम्मान  देने  वाला  चालाक  है ,   ऐसे  कार्यों  में  संलग्न  है   जिससे  समाज  में  अत्याचार  बढ़ता  है  ,  तो  वह  उनकी  कमजोरी  का  फायदा  उठाकर  उनकी  प्रतिभा  का  उपयोग  अपने  स्वार्थ  के  लिए  करने  लगते  हैं   ।  यह  स्थिति  समाज  के  लिए  घातक  होती  है   ।
   महाभारत  का   एक  पात्र  है ---- कर्ण --- ये  महादानी  था ,  बहुत  पराक्रमी  था  ,  भगवान  कृष्ण  स्वयं  उसकी  प्रशंसा  करते  थे    लेकिन  समाज  ने  पग - पग  पर    उसका  तिरस्कार  किया  ' सूत - पुत्र '  कहकर  उसकी  खिल्ली  उड़ाई  ।     दुर्योधन  ने जो   अत्याचारी  और  अन्यायी  तो  था  लेकिन   चालाक  भी  था  ,  उसने  कर्ण  को  सहारा  दिया ,   भरी  सभा  में  उसका  तिलक  कर  उसे  अंगदेश  का  राजा  बना  दिया    जिससे  कर्ण  जैसा  वीर  और  दानी  उसकी  मित्रता  का  ऋणी  हो  गया  ।
  कर्ण  को  जब  यह  ज्ञात  भी  हो  गया  कि  वह  सूर्य पुत्र  है ,  महारानी  कुन्ती  उसकी  माँ  हैं ,  तब  भी  उसने   दुर्योधन  का  साथ  नहीं  छोड़ा   और  आखिरी  सांस  तक   अर्जुन  के  विरुद्ध  युद्ध  कर  दुर्योधन  की  मित्रता  का  कर्ज  चुकाया   ।
    आज  समाज  को  जागरूक  होने  की  जरुरत  है  ,  कोई  अत्याचारी ,  अन्यायी  हमारी  कमजोरी  का  फायदा  न  उठा  ले  ।    अपने  मन  को  मजबूत  बनायें ,   और   ईश्वर   से  प्रार्थना  कर  जीवन  का  सही  मार्ग  चुने  । 

No comments:

Post a comment