Sunday, 11 December 2016

बुद्धिजीवी वर्ग की उदासीनता से ही समाज में विभिन्न समस्याएं उत्पन्न होती हैं

  समाज  में  अमीर  और  गरीब  के  बीच  बहुत  गहरी  खाई  है   ।  जो  अमीर  हैं ,  जिनके  हाथ  में  ताकत  है  वे    गरीबों  का  इतना  शोषण  करते  हैं ,  उन्हें  इतना  लूटते  हैं  कि  निर्धन  व्यक्ति   केवल  रोटी - पानी  की  चिन्ता  में  मगन  रहे   ,   वो  समझ  ही  न  सके  कि  यह  अत्याचार  और  अन्याय  है  ,  शोषण  व  अत्याचार  को  वह  अपना  दुर्भाग्य  समझ  कर  स्वीकार  कर  ले  ,  इस  निर्धनता  की  वजह  से  उसमे  अत्याचार  और  अन्याय    के   खिलाफ  खड़े  होने  का  साहस  ही  न  रहे   ।
    जो  बुद्धिजीवी  वर्ग  है   उसमे  समझ  है  ।  वह   सही - गलत  को  ,  अत्याचार ,  अन्याय  को   समझता  तो  है    लेकिन  उसकी  अपनी  मानसिक  और  शारीरिक  कमजोरियां  हैं  ,  धन व  पद  का  लालच ,  कामना  और  वासना  है    ।   इन  सबकी  वजह  से  बुद्धिजीवी  वर्ग  बिक  जाता  है  ,  अपनी  आंखों  पर  पट्टी  बाँध  लेता  है    -  इसी  कारण   से  समाज  में  अपराध ,  अत्याचार ,  शोषण  बढ़ता  जाता  है  ।  
    आज  सबसे  ज्यादा  जरुरत  है ---- विवेक  की   ।   क्योंकि  ऐसे  समाज  में  शान्ति  कहीं  नहीं  होती  ,  ,  हर  व्यक्ति  परेशान  रहता  है   । 

No comments:

Post a comment