Wednesday, 7 December 2016

बुराई को दूर करने के लिए जड़ पर प्रहार जरुरी है

  आज  समाज  में  नशा ,  तम्बाकू , सिगरेट ,  मांसाहार ,  अश्लील  फ़िल्में  और  साहित्य  की  भरमार  है   ।  ये  सब  बातें  मनुष्य  की  सोचने - समझने   और  निर्णय  लेने  की  क्षमता  को   समाप्त  कर  देती  है  ।  मन  चंचल  होता  है  ,  इन  सब  बुरी  आदतों  की  वजह  से  जीवन  में  सकारात्मक  कार्य  संभव  नहीं  हो  पाता  ।
       अच्छे  समाज  का  निर्माण  करना  हो  तो  इन  पहले  इन  बुराइयों  को  मिटाना  होगा   ।    जो  लोग  इन  बुराइयों  को  समाज  को  परोसते  हैं  वे  सोचते  हैं  कि  वे   और  उनका  परिवार  इससे   बच    जायेगा   लेकिन  ऐसा  संभव  नहीं  होता   ।   धन  के  लालच  में  चाहे  व्यक्ति  अनदेखा  कर  दे   लेकिन  अपनी  आँखों  के  आगे   अपने  परिवार  का   पतन  शूल  की  तरह  चुभता  है   ।
  व्यक्ति  से  मिलकर  ही  परिवार  और  समाज  व  राष्ट्र  का  निर्माण  होता  है  ,  इसलिए  अब  जरुरत  है --- जागने  की   ।  सतत  विकास   बेजान  साधनों  से  नहीं  ,  परिष्कृत  मन - मस्तिष्क  वाले  मनुष्यों  से  होता  है    जिनकी  चेतना  जाग्रत  हो ,  जिनमे  संवेदना  हो   ।  

No comments:

Post a comment