Saturday, 17 December 2016

लालच ----- अशान्ति का कारण है

   लालच    की  वजह  से   व्यक्ति  की  बुद्धि  भ्रमित  हो  जाती  है  |  धन ,  पद ,  कामना ,  वासना   इन  में  यदि  कोई  नियंत्रण  न  हो  तो  व्यक्ति  का  लालच  और  असंतोष  इतना  बढ़  जाता  है  कि  वह  अत्याचारी  हो  जाता  है  ,  लोगों  पर  तो  अत्याचार  करता  ही  है    साथ  ही  अपना  नाश  भी  करता  है   ।
         इसलिए  अत्याचार ,  अन्याय  के  विरुद्ध    संगठित  रूप  से  खड़े  होना   अनिवार्य  है  अन्यथा   उसका  यह  नशा  बढ़ता  जाता  है   और   अन्य   लोग  भी  अपने  अपने  क्षेत्र  में   शोषण  व  अत्याचार  करने  लगते  हैं   । 

No comments:

Post a comment