Monday, 12 December 2016

संसार में अशांति का कारण है ----- लोग अपराधियों से दूर नहीं , उनके संरक्षण में रहना चाहते हैं

    आज  की  सबसे  बड़ी  विडम्बना  यह  है  कि  लोग  समाज  में  अपना  वर्चस्व  बनाये  रखने  के  लिए  ,  अपने  अनैतिक  धन्धों  के  लिए   तथाकथित  ' गुंडों '  का   सहारा  लेते  हैं  ,  उनको  विभिन्न  तरीकों  से  धन  दे  कर  उनका  पोषण  करते  हैं    ।  यही ' गुंडे  '  जब  हत्या ,  अपहरण ,  बलात्कार  जैसे  जघन्य  अपराध  करते  हैं   तो  उनकी  शिकायत  करने  से  भी  हर  कोई  डरता  है ,  यदि  किसी  ने  हिम्मत  कर  के  शिकायत  कर  भी  दी    तो  अपने  '  आकाओं '  की  दम  पर  वे  छूट  जाते  हैं    और   खुलेआम  घूमते  हैं  ।  इससे  अन्य  अपराधी  प्रवृति  के  लोगों  की  हिम्मत  खुल  जाती  है   ।
    समाज  में  शान्ति  तभी  होगी   जब  लोगों  को  अच्छे - बुरे  व्यक्तियों  की  पहचान  होगी   ।  आज  लोगों  पर  दुर्बुद्धि  का  प्रकोप  है  --- जो  भ्रष्टाचार  में  लिप्त  है ,  दूसरों  की  जमीने ,  सम्पति   हड़प  लेता  है ,  धोखाधड़ी  करता  है  ,  नशे  आदि  का  व्यापार  करता  है  ,  समाज  का  चारित्रिक  पतन  करने  में  महत्वपूर्ण  भूमिका  निभाता  है  --- ऐसे  लोगों  को  समाज  सम्मान  देता  है  ,  उनके  गलत  कार्य  भी  उनके  गुण  हैं  ।
                 जो  सच्चाई ,  ईमानदारी  का  जीवन  व्यतीत  करते  हैं  ,  परोपकार ,  सेवा  के  कार्य  करते  हैं    उन्हें  उपेक्षित  किया  जाता  है   ।  ऐसे  में  अशान्ति  तो  होगी  ही  ।  सही  और  सकारात्मक  सोच  की  जरुरत  है  । 

No comments:

Post a comment