Saturday, 10 December 2016

अशांति का कारण है ------- हीनता का भाव

     गरीबी ,  बीमारी ,  सुन्दर  न  होना ,  शारीरिक  कमी  होना ----- इन  कारणों  से  व्यक्ति  में  इतना  हीनता  का  भाव  नहीं  आता ,  जितना  कि  अपने  ईमान  को ,  अपनी  आत्मा  को  बेच  देने  से  आता  है  ।  जब  व्यक्ति  धन  के  लालच  में  किसी  के  हाथ  की  कठपुतली  बन  जाता  है   तो  कहीं  न  कहीं  उसकी  आत्मा  उसे  कचोटने  लगती  है   ।   किसी  से  धन ,  पद  या  कोई  विशेष  सुविधा  पाने  के  लिए  उसे  अपने  स्वाभिमान  को  इतना  गिरवी  रख  देना  पड़ता  है   कि  एकान्त  उसे  कचोटने  लगता  है   ।  वह  अपनी  खीज  अपने  परिवार  पर  या  अपने  से  कमजोर   पर  निकालता  है  ,  शराब  के  नशे  में  उसे  भुलाने  की  कोशिश  करता  है   ।  इससे  पारिवारिक  जीवन  में  अशान्ति  उत्पन्न  होती  है   ।   ऐसे  लोगों  की  अधिकता  है  इसलिए  समाज  में  भी   अशान्ति  है  |

No comments:

Post a comment