Thursday, 22 December 2016

प्रतिभा का सदुपयोग हो

  संसार  में  एक  से  बढ़  कर  एक  प्रतिभाशाली  व्यक्ति  हैं  ,  अनेक  ऐसे  व्यक्ति  हैं   जो  ईमानदार  और  कर्तव्य निष्ठ  हैं  ,  परिश्रमी  हैं    ।  लेकिन  यह  किसी  भी  समाज  का  दुर्भाग्य  है  कि  उनकी  इस  प्रतिभा  का  उपयोग  भ्रष्टाचारी  और  बेईमान  व्यक्ति  कर  लेते  हैं   ।
  इसलिए  ऐसे  लोग  कहते   हैं  कि हम  तो  इतने  ईमानदार   हैं ,  कर्तव्य  पालन  करते  हैं   फिर  भी  जीवन  विभिन्न  समस्याओं  से  ग्रस्त  है  ।    इसका  कारण  है  कि  उनके  ये  गुण  ऐसे  लोगों  को  मजबूत  बना  रहें  हैं  जो  समाज  में  अत्याचार  और  अन्याय  करते  हैं   ।   इसलिए  हमें  जागरूक  होना  चाहिए  कि  हमारे  गुणों  से  समाज  को  लाभ  हो  ,  किसी  का  अहित  न  हो  ।
  महाभारत  के  प्रसंग  हमें  जीवन  जीने   की  कला  सिखाते  हैं  ----  भीष्म पितामह   इतने  पराक्रमी  थे ,  उन्हें  इच्छा मृत्यु  का  वरदान  था  ,  गुरु  द्रोणाचार्य  के  समान  कोई   धर्नुधर  नहीं  था    लेकिन  इन  दोनों  ने  ही  सब  जानते  हुए  भी  दुर्योधन  का  साथ  दिया    जो  कि  अन्यायी  था  ,  उसने  अपने  भाइयों  का  राज्य  हड़पा  था  और  उन्हें  सताने  के  लिए  षड्यंत्र  रचता  था   ।  इस  कारण  इतने  पराक्रमी  होते  हुए  भी  गुरु  द्रोणाचार्य  और  भीष्म  पितामह    दोनों  का  पतन  हुआ   । 

No comments:

Post a comment