Wednesday, 14 December 2016

आज की सबसे बड़ी जरुरत है ----- विवेक जाग्रत हो

       यह  दुर्बुद्धि  है  कि  मनुष्य  स्वयं  अपना  अहित  कर  रहा  है-----  समाज  में  अश्लीलता  और  महिलाओं   के  प्रति     अपराध  बढ़ते  जा  रहे  हैं   ,  इससे  नारी  जाति   तो   कष्ट  व  उत्पीड़न   सहन  कर  रही  है   ,   इस  के  प्रभाव  से  पुरुष  वर्ग  भी  अछूता  नहीं  रहेगा  ।     मन  को  कुमार्गगामी  बनाने  वाले  सब  साधन  समाज  में  मौजूद  हैं  ,  ऐसे  में  कहीं  चरित्र  हनन  की  घटनाएँ  होती  हैं    तो  कहीं   मन  पर  नियंत्रण  न  रख  पाने  के  कारण  व्यक्ति  स्वयं  पथभ्रष्ट  हो  जाता  है   ।   पुरुष  के  अहं  को  सबसे  ज्यादा  ठेस  तब  पहुँचती  है  जब  वह  अपने  ही  परिवार  में   मर्यादाहीन  आचरण  देखता  है   ।
  श्रेष्ठ  चरित्र  से  ही    सुखी  व  शांतिपूर्ण  परिवार  व  समाज  का  निर्माण   हो    सकता  है   । 

No comments:

Post a comment