Friday, 19 December 2014

धन जीवन के लिए अनिवार्य है लेकिन मन की शांति के लिए लालच से सावधान !

जीवन  की  सुख-सुविधाओं  के  लिए  धन  अनिवार्य  है  ।  शांतिपूर्ण  जीवन  के  लिए  जितना  धन  परिश्रम  से  कमाया,  जितना  वेतन  मिला  उसमें  संतोष  करना  चाहिए,  और  धन  की  जरुरत  है  तो  और  मेहनत  करो  लेकिन  यदि  कोई  आपको  गलत  तरीके  से  धन  कमाने  का  लालच  दे  रहा  है  तो  जागरुक  हो  जाइये  ।
  यह  धन  नहीं  शिकारी  का  जाल  है  । आज  समाज  में  बहुत  से  ऐसे  लोग  हैं  जिनका  व्यवसाय  ही  दूसरों  को  ब्लैकमेल  करना,  अपने  स्वार्थ  के  लिए  दूसरों  को  इस्तेमाल  करना  है  ।
    ऐसे  लोगों  का  जीवन  ठाठ-बाट  का  है  या  जैसा  भी  है  इस  पर  आप  ध्यान  न   दें
यदि  आपको  अपना  और  अपने  परिवार  का  सुख-शांति  का  जीवन  चाहिए  तो  थोड़े  से  लालच  में  आकर  अपने  जीवन  रूपी  गाड़ी  की  चाबी  दूसरे  के  हाथ  में  मत   दीजिए
गलत  तरीके  से  धन  तो  बहुत  कमाया  जा  सकता  है  लेकिन  जब  दूसरे  लोग  आपको  अपने  इशारे  पर  चलाएंगे  तो  इससे  आत्मा  को  कष्ट  होता  है,  धन-संपति    बहुत  हो  जाती  है,  लेकिन  मन  बुझ  जाता  है,  रौनक  चली  जाती  है
सबसे  महत्वपूर्ण  बात  ये  है  दूसरे  के  पास,  पड़ोसी  के  पास  कितना  सुख-वैभव  है  इसे  कभी  न  देखें
यदि  आप  दूसरों  का  वैभव  देखेंगे  तो  आपके  पास  जो  सुख  है  उसका  आनंद  नहीं  उठा  पाएंगे । संसार  में  सबका  भाग्य  अलग-अलग  है,  सारे  सुख  किसी  के  पास  नहीं  है  इसलिए  ईश्वर  का  विश्वास  रखो  , जो  ईश्वर  ने  आपको  दिया  उसका  आनंद  मनाओ   । 

No comments:

Post a comment