Monday, 29 December 2014

मन की शांति के लिए जरुरी है कि हम सकारात्मक कार्यों में व्यस्त रहें

फुर्सत  के  क्षणों  में  ही  मन  इधर  से  उधर  भागता  है  और  अशांत  होता  है  । हमारा  अधिकांश  समय  दूसरों   पर   ध्यान  देने  में  चला  जाता  है, अन्य  लोग  क्या   कर  रहें  हैं,  हमारे  बारे  में  क्या  सोचते  हैं, इसी  सब  में  हम  परेशान  रहते  हैं  ।  घर  में  या  ऑफिस  में  जब  भी  फुर्सत  हुए  परचर्चा  में  ही  सारा  समय  बीत  जाता  है,  इसमें   अपनी   ऊर्जा   भी   बर्बाद  होती  है  और  सबकी  बातें  सुन-सुनकर  मन   अशांत  हो   जाता    है  |
  हमारा  जीवन  अनमोल  है   और   हमारे  पास  गिनती  की  साँसे  हैं,  इसलिए  हम   अपना  ध्यान   अपने  व्यक्तित्व  के  विकास  पर  केन्द्रित  करें  । सकारात्मक  कार्यों  कों  करने  से  ऊर्जा  मिलती  है,  मन  में  उमंग  पैदा  होती   है,  नीरसता  दूर  होती  है  ।
जब  हम  व्यस्त  रहेंगे  तो  फालतू  बातें  करने   का,  सुनने  का   हमारे  पास  समय  ही  नही  होगा,  इससे  मन  शांत  रहेगा,  हमारे  मन  में  शांति  होगी  तो  परिवर  में   भी   शांति  होगी  ।
अवकाश    के   दिन  कों  दोस्तों  के  साथ  गपशप  करने  में  व्यतीत  न  कर  किन्ही  सकारात्मक  कार्यों  में  व्यस्त  रहेंगे  तो  उससे  आपको  उर्जा  मिलेगी  । 

No comments:

Post a comment