Sunday, 21 December 2014

मन को शांत रखने के लिए ईश्वर विश्वास क्योँ जरुरी है

समस्याएं  सबके  जीवन  में  आती  हैं,  जो  छल-कपट  करते  हैं  उनके  जीवन  में  भी  और  जो  नेक  रास्ते  पर  चलते  हैं   उनके  जीवन  में  भी    जब  व्यक्ति  सच्चाई  के  रास्ते पर  चलता  है,  किसी  से  छल-कपट  नहीं,  धोखा  नहीं,  सरलता  से  जीवन  जीता  है   तो  ऐसे  व्यक्ति  के  व्यक्तित्व  में  एक  खास  चमक  आ  जाती  है  जो    ऐसे  व्यक्तियों  को  जिनकी   दुष्प्रवृति    है   बर्दाश्त  नहीं  होती  है  ।
  ऐसी  दुष्प्रवृति  के  लोग ---- शराबी,  जुआरी,  व्याभिचारी   आदि   अपना-अपना  ग्रुप  बढ़ाना  चाहते  हैं  और  ऐसे  सीधे-सरल  लोगों  को   बहका  कर,  छल-कपट  से,  तरह-तरह  से  अत्याचार  कर  के  उनके  व्यक्तित्व  की  चमक  को  मिटाकर  अपने  जैसा  ही  बना  देना  चाहते  हैं  ।
   ऐसे  लोगों  का  ग्रुप  बहुत  बड़ा  व  मजबूत  है  ,  ये  लोग  अच्छाई  को  टिकने  नहीं  देना  चाहते  हैं,  विभिन्न  तरीकों  से  पीड़ित  करके  सुख-चैन  छीनना  चाहते  हैं  ।
    ऐसे  लोगों   के  बीच  यदि  आप  शांतिपूर्ण  जीवन  जीना  चाहते  हैं  तो  आपको  भगवान  के  भक्त  होने  के  साथ  कर्मयोगी  बनना  होगा   । 
ईश्वर  पर  अटूट  विश्वास,  ईश्वर  हर  पल  हमारे  साथ  है,  वे  हमें  देख  रहें  हैं  इसलिए    कोई  गलत  कदम  नहीं  उठाना  और  एक  सच्चे  कर्मयोगी  की  तरह  अपने  कर्तव्य  का  पालन  करना   । जब  वे  बुराई  पर  मजबूती  से  टिके  हैं  तो  हमें  अपनी  अच्छाई  पर  मजबूती  से   टिके  रहना  है  । अपनी  चमक  को  खोना  नहीं  है  ।
ईश्वर  विश्वास  से  हमें  शक्ति  मिलती  है,  भगवान  अपने  भक्त  की  रक्षा  करते  हैं  । हमें  यह  बात  अपने  मन  मे  मजबूती  से  बैठा  लेनी  चाहिए  कि  हर  अत्याचारी  का  अंत  होता  है  और  जो  ईश्वर  विश्वास  की  ढाल  हाथ  में  लेकर  ऐसे  लोगों  का  निर्भीकता  से  सामना  करता  है  वही  विजयी  होता  है,  उसी  का  व्यक्तित्व   प्रखर  होता  है

No comments:

Post a comment