Wednesday, 30 November 2016

एक बुराई अनेक बुराइयों को जन्म देती है

         एक  बुरी  आदत  से  ही  व्यक्ति  का  पतन  होने  लगता  है    ।  ' स्वार्थ '  एक  ऐसा  दुर्गुण  है  जिससे  व्यक्ति  का  नैतिक  पतन  होने  लगता  है  ।     जैसे  गेंद  है  ,  वह  सीढ़ी - दर - सीढ़ी  नीचे  गिरती  जाती  है   इसी  तरह  जब  व्यक्ति  पर  स्वार्थ  हावी  हो  जाता  है   तो  वह  अपना  हित  पूरा  करने  के  लिए  कोई
  कोर - कसर  नहीं  छोड़ता  है   ।    बुराई  बड़ी  तेजी  से  फैलती  है    ।    आज  व्यक्ति  कर्मकांड  तो  बहुत  करता  है  किन्तु   व्यक्ति  की  चेतना   सुप्त  है  ,  संवेदना  नहीं  है  इसी  कारण  आज  हर  व्यक्ति  तनाव  में  है   । 

No comments:

Post a comment