Saturday, 1 November 2014

प्रकृति के साथ भावनात्मक साहचर्य

जिस  दिन  हम  प्रचलित  असंयम  को  सभ्यता  समझने  की  मान्यता  बदल  देंगे,  अपने  सोचने  का  ढंग  सुधार  लेंगे,  उसी   दिन  मानव  जीवन  पर  लगा  अस्वस्थता  का  ग्रहण  उतर  जायेगा  ।
      प्रकृति  के  पाँच  तत्वों  पृथ्वी,  जल,  वायु,  अग्नि  और  आकाश  से  मनुष्य  का  शरीर  बना  है  और  इसी  प्रकृति  के  सूक्ष्म  तत्वों  से  मनुष्य  का  मन  बना  है  । प्रकृति  के  विपरीत  जीवन  जीकर  न  तो  इनसान  स्वस्थ  हो  सकता  है   और   न  ही  सुखी  ।  प्रकृति  का  नैसर्गिक  साहचर्य  ही  उसे  स्वास्थ्य,  सुख  एवं  समृद्धि  के  अनुदान  दे  सकता  है  । 

No comments:

Post a Comment