Sunday, 9 November 2014

ईश्वर की उपेक्षा न करें

स्वस्थ  शरीर  और  स्वस्थ  मन  के  लिए  जरुरी  है  कि  हम  ईश्वर  की  उपेक्षा  न  करें  ।  ईश्वर  हर  पल  हमारे  साथ  हैं  लेकिन  हम  उन्हें  महसूस  ही  नहीं  कर  पाते  ।   जिसके  बिना  हमारा  जीवन  नहीं  है,  वही  ईश्वर  है   ।  आप  कल्पना  कीजिए  यदि  सूर्योदय  न  हो  तो  ? विश्व  में  हाहाकार  मच  जाये  ।   सूर्य  ही  प्रत्यक्ष  देवता  हैं,  ईश्वर  हैं  ।  हमारे  चारों  ओर  सूर्य  का  प्रकाश  बिखरा  हुआ  है,  उसी  से  हमारा  जीवन  है  इसलिए  सर्वप्रथम  हम  उनकी  शक्ति  के  आगे  सिर  झुकाएं,  सूर्योदय  के  दर्शन  करें  ।   यदि  आप  किसी  ऐसे  स्थान  पर  हैं  जहाँ  सूर्योदय  नहीं  दिखाई  देते  तो  मन  में  सूर्योदय  की  कल्पना  करके  उन्हें  प्रणाम  करें,  यदि  देर  से  उठते  हैं  तो  भी  मन  में  सूर्योदय  की  कल्पना  करके  उन्हें  प्रणाम  अवश्य  करे,
          यदि  इसके  साथ  आप  गायत्री  मंत्र  का  जप   करेंगे  तो  उसका  लाभ  आप  स्वयं महसूस  करेंगे  ।
इसी  तरह  वायु,  जल,  पृथ्वी    से  ही  हमारा  जीवन  है  । इन  प्राकृतिक  दैवी  शक्तियों  को  हम  अपने  परिवार  के  सदस्य  की    तरह  महसूस  करें  ।
घर  से  बाहर  कहीं  भी  जायें  तो  मन  ही  मन  में  उनसे  कहकर,  उन्हें  प्रणाम  करके  जायें,  यदि  भूल  गये  तो  कोई  बात  नहीं,  जब  याद  आ  जाये  तभी  मन  में  प्रणाम  कर  लें  ।   अपने  जीवन  का  सुख-दुःख उनसे  अवश्य  बताएं  ।  दुःख  में  तो  सभी  याद  करते  हैं  लेकिन  यदि  24  घंटे  में  एक  पल  का  भी  सुख  मिला  है  उसे  ईश्वर   को  अवश्य  बताएं,  उनकी  उपेक्षा  न  करें  ।   दिन  भर  में  जो  भी  काम  करें  उसमें  एक  बार  ईश्वर  को  अवश्य   याद  करें   । इस  तरह  दिनचर्या  में  ईश्वर  को  सम्मिलित  करने  से    जब  आप  महसूस  करेंगे  कि  वह  सर्वशक्तिमान  सदा  आपके  साथ  है  तो   आत्मविश्वास  जागेगा,  तनाव  दूर  होगा,  स्वास्थ्य  अच्छा  होगा  ।

       

No comments:

Post a comment